Saturday, December 3, 2011

हमरे नेता जी......

कुछ नेता तो कुत्तेजैसे है -कुछ उनसे भी अच्छे है |

कुछ के बारे में क्या बोलू -सुवर उनसे अच्छे है ||


कुछ जैसे शहर के नाले है -ज्यादा ही बदबू वाले है |


पास में इनके जाने से पहले -नाक पकड़ने वाले है ||


कुछ नेता तो कुत्तेजैसे है -कुछ उनसे भी अच्छे है |


गिद्ध बना है नेता जब से -तब से न दिखलाता है |


आदत उसकी गई नहीं है -अब भी देश को खाता है ||


कुछ नेता तो कुत्तेजैसे है -कुछ उनसे भी अच्छे है |


कुछ के बारे में क्या बोलू -सुवर उनसे अच्छे है ||


                    मगर मच्छ से आंसू इनके -मौका मिले तो खा जाये |


                   इन्हें मिले इक बार जो मौका -अरबो -खरबों खा जाये||


                 कुछ नेता तो कुत्ते जैसे है -कुछ उनसे भी अच्छे है |

                   कुछ के बारे में क्या बोलू -सुवर उनसे अच्छे है ||


                                         ---ह्रदय जौनपुरी

No comments:

Post a Comment

There was an error in this gadget

Total Pageviews