Friday, March 23, 2012

गुंडा, पत्रकार, पुलिस और अवैध उगाही

 

    
     भारत देश में बड़ी और छोटी गाड़ियों को फाइनेंस से खरीदना कोई जुर्म है क्या ?? आज देश भर में आसान किस्तों पर ऋण देने और दिलाने वाले सक्रिय हैं. सरकारी और गैर-सरकारी सभी प्रकार के बैंक और उनके दलाल इस काम में लगे हैं. इसके बावजूद अपने देश में इसके बाद भी माइक्रो फाइनेंसिंग की बहुत कमजोर स्थिति है. सरकार बनाने के लिए विभिन्न राजनीतिक दल अक्सर ऋण माफी का वायदा करते हैं. उत्तर प्रदेश को पुत्तर प्रदेश बनाने के लिए इस बार मुलायम सिंह यादव ने भी पचास हज़ार से कम के सभी कृषि ऋण माफ करने का वायदा किया था. जनता ने बेरोजगारी भत्ता की ही तरह इस वायदे को भी हाथो-हाथ लिया और समाजवादी पार्टी के गुंडा पार्टी के इतिहास होने के बावजूद पूर्ण बहुमत दिलाने में कोई गुरेज नहीं की. पर बैंकों में घटती भीड़ और सेवायोजन कार्यालयों में बढती भीड़ में सह-सम्बन्ध खोजने की जरूरत है. इसके विपरीत बैंकों ने वसूली के नाम पर “वसूली गुरूओं” को सक्रिय कर दिया है, जो बिना किसी नियम-क़ानून और अधिकार के सड़क पर चलती गाड़ियों को खींचने का काम पुलिस और मीडिया में बड़े बैनर के नाम पर काम करने वाले दलाल टाइप के चिंटुओं की रहनुमाई में कर रहे हैं. तमाम हिस्ट्रीशीटर इस चोखे धंधे में लगे हैं. ऎसी ही एक घटना पर आप सब का  ध्यान आकृष्ट करवाना चाहता हूँ.
     कानपुर से इटावा मार्ग पर कानपुर ग्रामीण क्षेत्र में एक थाना है – सचेंडी.  इस थाने में ऐसे ही बैंकों की वसूली का काम करने वाले एक नामी हिस्ट्रीशीटर संदीप ठाकुर का यार्ड है, जहां वो बैंक की किश्तें ना अदा करने वाले लोगों की गाडियां खडी करवाता है. स्थानीय सचेंडी थाने की पुलिस उसके इस काम में पूरी मदद करती है. कल की घटना है, कानपुर के एक नामी और सम्मानित व्यक्ति का ट्रक इस हाइवे से गुजर रहा था. तभी इस संदीप ठाकुर के एक गुर्गे ने बिना नंबर की बोलेरो से उसे रोककर खडा करा किया और ड्राइवर से चाभी छीनकर गालीगलौज शुरू कर दी. उसने ड्राइवर के फोन से ही गाडी मालिक को भी उलटा-सीधा कहा. गाड़ीमालिक ने किश्तें जमा होने की बात कही तो भी उसने कहा की वो गाडी नहीं छोडेगा. बातचीत के दौरान संदीप ठाकुर का आदमी होने की कई बार पुष्टि करी.
     गाडीमालिक के घटनास्थल पर पहुँचने पर वो मार-पीट आर गाली-गलौज पर उतारू हो गया. सचेंडी थानाध्यक्ष से गुहार लगाने पर उसने भी इस गुंडे का पक्ष लेते हुए उन्हें डपटने का प्रयास किया. तभी उस गुर्गे ने अपने को सोनू सिंह नामक हिन्दुस्तान के किसी क्राइम रिपोर्टर का जिक्र किया. थानाध्यक्ष भी सोनू सिंह से बहुत भयाक्रांत था. उसने बात को बढ़ाने से रोकते हुए हुए कहा की ट्रक को तत्काल छोड़ दिया जाए. तब तक गाडीमालिक की शिकायत पर प्रदेश के आला पुलिस अधिकारियों के फोन आने शुरू हो गए और थानाध्यक्ष सकते में पड़ गया. गाड़ीमालिक ने लिखित शिकायत करने का दबाव बनाया तो मामला गम्भीर हो गया. बिना नंबर की बोलेरो और गुंडे को थाने में बिठा लिया गया पर शिकायत ना लिखने पर जोर दिया जाने लगा. उधर उस गुंडे ने देश-भर में अपने हित-रक्षकों को संपर्क करना शुरू कर दिया. सभी किश्तें जमा होने की दशा में गाड़ी को बैंक की किसी भी नियमावली की जद में न आने के कारण गाडीमालिक का मनोबल ऊंचा था और दूसरी तरफ बिना किसी अधिकार-पत्र के गाड़ी पकड़ने वाले अपराधी और मामले के प्रदेश के आला पुलिस-अधिकारियों के संज्ञान में होने के कारण थानाध्यक्ष की हालत पतली थी. दिन-भर चले इस ड्रामे में आखिर गाडीमालिक ने लिखित-शिकायतपत्र ना देने का निर्णय लिया. और पुलिस ने उस गुंडे को देर रात छोड़ दिया. उसके सारे खैरख्वाह गाडीमालिक के घर और परिवार के लोगों को दिनभर सिफारिश करते रहे. जिनमें संदीप ठाकुर का फोन भी था. अवगत कराता चलूँ की संदीप ठाकुर को कुछ समय पहले अवैध तरीके से केंद्र सरकार से “लाल-बत्ती” प्राप्त हुयी थी, जो मीडिया में सुर्खियाँ बटोरने के बाद छीन ली गयी थी.
      प्रश्न ये है की अगर ये गाडी किसी सामान्य व्यक्ति की होती तो किश्तें जमा होने के बावजूद  भी पुलिसिया संरक्षण में हुयी इस गुंडई से उसकी मनोदशा क्या होती ????? पुलिस के जिस अधिकारी की सांठ-गाँठ से ये गुंडा काम कर रहा है, उसकी सज़ा अभी तक क्यों नहीं निर्धारित की गयी, जबकि आला अधिकारियों को इस मामले की पूरी जानकारी है. और वो पत्रकार सोनू सिंह तो पूरी तरह बरी हो गया जो इस थाने में तैनात पुलिस कर्मियों और थानाध्यक्ष के लिए महानतम पत्रकार पुण्य प्रसून बाजपेयी से कम हैसियत नहीं रखता होगा.

1 comment:

  1. Respected Janab Amitabh yash ji, please see this matter....

    ReplyDelete

There was an error in this gadget

Total Pageviews